• होम
  • ज्योतिष
  • छठ महाव्रत के दौरान करें सूर्य कवच का पाठ, मिलेगी निरोगी और बलशाली काया

छठ महाव्रत के दौरान करें सूर्य कवच का पाठ, मिलेगी निरोगी और बलशाली काया

By: Ankur Fri, 20 Nov 2020 08:57 AM

छठ महाव्रत के दौरान करें सूर्य कवच का पाठ, मिलेगी निरोगी और बलशाली काया

छठ महाव्रत जारी हैं जिसे बिहार और उत्तरप्रदेश में मुख्य रूप से मनाया जाता हैं। छठ महाव्रत मुख्य रूप से संतान सुख के लिए किया जाता हैं। आज छठ महाव्रत का तीसरा दिन हैं जब व्रत रखते हुए सूर्य को अर्ध्य दिया जाता हैं। छठ पूजा के दौरान सूर्य को अर्ध्य देने से जीवन में शुभ संचार होता हैं और सकारात्मकता फैलती हैं। इसी के साथ इस दिन सूर्य कवच का पाठ किया जाए तो निरोगी और बलशाली काया प्राप्त होती हैं। इसलिए आज इस कड़ी में हम आपके लिए सूर्य कवच पाठ से जुड़ी जानकारी लेकर आए हैं।

याज्ञवल्क्य उवाच-
श्रणुष्व मुनिशार्दूल सूर्यस्य कवचं शुभम्।
शरीरारोग्दं दिव्यं सव सौभाग्य दायकम् ।1।

याज्ञवल्क्यजी बोले- हे मुनि श्रेष्ठ! सूर्य के शुभ कवच को सुनो, जो शरीर को आरोग्य देने वाला है तथा संपूर्ण दिव्य सौभाग्य को देने वाला है।

astrology tips,astrology tips in hindi,chhat mahavrat special,chhat mahavrat 2020,surya kavach ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, छठ महाव्रत स्पेशल, छठ महाव्रत 2020, सूर्य कवच का पाठ

देदीप्यमान मुकुटं स्फुरन्मकर कुण्डलम।
ध्यात्वा सहस्त्रं किरणं स्तोत्र मेततु दीरयेत् ।2।

चमकते हुए मुकुट वाले डोलते हुए मकराकृत कुंडल वाले हजार किरण (सूर्य) को ध्यान करके यह स्तोत्र प्रारंभ करें।

शिरों में भास्कर: पातु ललाट मेडमित दुति:।
नेत्रे दिनमणि: पातु श्रवणे वासरेश्वर: ।3।

मेरे सिर की रक्षा भास्कर करें, अपरिमित कांति वाले ललाट की रक्षा करें। नेत्र (आंखों) की रक्षा दिनमणि करें तथा कान की रक्षा दिन के ईश्वर करें।

astrology tips,astrology tips in hindi,chhat mahavrat special,chhat mahavrat 2020,surya kavach ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, छठ महाव्रत स्पेशल, छठ महाव्रत 2020, सूर्य कवच का पाठ

ध्राणं धर्मं धृणि: पातु वदनं वेद वाहन:।
जिव्हां में मानद: पातु कण्ठं में सुर वन्दित: ।4।

मेरी नाक की रक्षा धर्मघृणि, मुख की रक्षा देववंदित, जिव्हा की रक्षा मानद् तथा कंठ की रक्षा देव वंदित करें।

सूर्य रक्षात्मकं स्तोत्रं लिखित्वा भूर्ज पत्रके।
दधाति य: करे तस्य वशगा: सर्व सिद्धय: ।5।

सूर्य रक्षात्मक इस स्तोत्र को भोजपत्र में लिखकर जो हाथ में धारण करता है तो संपूर्ण सिद्धियां उसके वश में होती हैं।

सुस्नातो यो जपेत् सम्यग्योधिते स्वस्थ: मानस:।
सरोग मुक्तो दीर्घायु सुखं पुष्टिं च विदंति ।6।

स्नान करके जो कोई स्वच्छ चित्त से कवच पाठ करता है वह रोग से मुक्त हो जाता है, दीर्घायु होता है, सुख तथा यश प्राप्त होता है।

ये भी पढ़े :

# क्यों दिया जाता हैं छठ पूजा के दौरान सूर्य को अर्घ्य, यहां जानें इसके फायदे

# पूर्ण लाभ पाने के लिए यहां जानें छठ व्रत कथा, पूजन और अनुष्ठान विधि

# शुभ फल की प्राप्ति के लिए छठ पूजा में जरूर करें इन 7 चीजों को शामिल

# यहां जानें छठी मइया का पौराणिक और पूजा के दौरान अर्घ्य देने का वैज्ञानिक महत्व

Tags :

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com