दिवाली की रात काशी के महाश्मशान पर हुई तंत्र साधना, कोरोना से निजात के लिए की प्रार्थना

By: Pinki Sun, 15 Nov 2020 11:00 AM

दिवाली की रात काशी के महाश्मशान पर हुई तंत्र साधना, कोरोना से निजात के लिए की प्रार्थना

दिवाली (Diwali) की रात जब सभी लोग घरों में पूजा-पाठ कर रहे थे। वहीं, एक जगह ऐसी भी थी जहां कोरोना (Coronavirus) से निजात के लिए तपस्वियों के जुटने का सिलसिला चल रहा था। मोक्ष नगरी काशी यानी वाराणसी (Varanasi) में दिवाली की रात तंत्र साधक कोरोना से निजात के लिए शव साधना कर रहे थे। वाराणसी के महाश्मशान मणिकर्णिका घाट पर जलती चिताओं के बीच साधकों ने कोरोना को भगाने के लिए तांत्रिक क्रिया शव साधना की।

बताया जाता है कि तंत्र साधक दिवाली की रात महाश्मशान पहुंचते हैं और तांत्रिक सिद्धियों के लिए देवी काली और बाबा भैरव के साथ ही बाबा मशान नाथ की उपासना करते हैं। सिद्धियों की प्राप्ति के लिए तांत्रिक पूरी रात बाबा मशान नाथ के मंदिर से लेकर जलती चिताओं तक, तंत्र क्रियाएं करते हैं।

इस तंत्र साधना के संबंध में अघोरी कहते हैं कि दिवाली की रात को महानिशा काल कहा जाता है। इसलिए तामसिक साधना करने वाले को चमत्कारी सिद्धियां मिलती हैं। तामसिक क्रिया करने के लिए शराब और मांस के साथ ही नरमुंड चाहिए होता है। जलती चिताओं के बीच बैठकर बलि दी जाती है और इस बार ये तंत्र साधना हुई। अघोरी कहते हैं कि यह साधना कोरोना से मुक्ति को लेकर की गई है। शव साधना में श्मशान पर बैठ कर महाकाली की उपासना और शक्ति का आह्वान किया जाता है। इस क्रिया को तामसी क्रिया कहा जाता है। यहां भी बलि दी गई, लेकिन मुर्गे या बकरे की जगह नींबू की। इस तांत्रिक क्रिया को करने वाले एक साधक की मानें तो इस महाश्मशान पर वैसे तो हमेशा ही भगवान शंकर रहते हैं, लेकिन दिवाली की रात काली निशा में महाकाली भी मौजूद रहती हैं। ऐसी मान्यता है कि दिवाली की रात साधना से भगवान तुरंत प्रसन्न होते हैं।

ये भी पढ़े :

# गुजरात: कोरोना संक्रमितों ने अस्पताल में ऐसे मनाई दिवाली, देख खुश हो जाएगा दिल

# पाकिस्तान में भी धूमधाम से मनाई गई दिवाली, कराची के स्वामी नारायण मंदिर में उमड़ी भीड़

# जरुरी खबर: दिवाली के बाद भी लगातार 4 दिन बंद रहेंगे बैंक, जाने से पहले ये लिस्ट चेक कर लें

# रोक के बावजूद दिवाली पर दिल्ली में हुई आतिशबाजी, बढ़ा प्रदूषण, कई इलाकों में AQI 999 तक पहुंचा

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन lifeberrys हिंदी की वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश से जुड़ीNews in Hindi
|
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com