Advertisement

  • होम
  • न्यूज़
  • पुलवामा: पहली बरसी पर राहुल ने मोदी सरकार से पूछे 3 सवाल, बोले - हमले से किसे सबसे ज्यादा फायदा हुआ?

पुलवामा: पहली बरसी पर राहुल ने मोदी सरकार से पूछे 3 सवाल, बोले - हमले से किसे सबसे ज्यादा फायदा हुआ?

By: Pinki Fri, 14 Feb 2020 10:49 AM

पुलवामा: पहली बरसी पर राहुल ने मोदी सरकार से पूछे  3 सवाल, बोले - हमले से किसे सबसे ज्यादा फायदा हुआ?

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में ठीक एक साल पहले सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर आत्मघाती हमला हुआ था। जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। पुलवामा हमले की पहली बरसी पर पूरा देश आज शहीद जवानों को याद कर रहा है। उधर, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए मोदी सरकार को सवाल के कठघरे में खड़ा कर दिया। राहुल गांधी ने ट्विटर के जरिए सरकार से तीन सवाल पूछे। कांग्रेस नेता ने लिखा, ‘आज जब हम पुलवामा के चालीस शहीदों को याद कर रहे हैं, तब हमें पूछना चाहिए...

1. पुलवामा आतंकी हमले से किसे सबसे ज्यादा फायदा हुआ?

2. पुलवामा आतंकी हमले को लेकर हुई जांच से क्या निकला?

3. सुरक्षा में चूक के लिए मोदी सरकार में किसकी जवाबदेही तय हुई?

rahul gandhi,pulwama attack,pulwama attack anniversary,pulwama attack annual function,pulwama terror attack anniversary,attack in pulwama latest,anniversary of pulwama attack,crpf killed in pulwama attack anniversary,news ,राहुल गांधी, पुलवामा आतंकी, हमला, नरेंद्र मोदी, मोदी सरकार

इस पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता कपिल मिश्रा ने पलटवार किया है। कपिल मिश्रा ने कहा है कि अगर देश पूछेगा कि इंदिरा-राजीव की हत्या का किसे फायदा हुआ तो क्या बोलोगे। कपिल मिश्रा ने लिखा कि शर्म करो राहुल गांधी। पूछते हो पुलवामा हमले से किसका फायदा हुआ? अगर देश ने पूछ लिया कि इंदिरा राजीव की हत्या से किसका फायदा हुआ, फिर क्या बोलोगे। इतनी घटिया राजनीति मत करो, शर्म करो।

राहुल गांधी से पहले सीपीआई (एम) नेता मोहम्मद सलीम ने भी पुलवामा के आतंकी हमले को लेकर सरकार पर निशाना साधा था। मोहम्मद सलीम ने ट्विटर पर लिखा, ‘हमें जवानों के लिए मेमोरियल नहीं चाहिए। बल्कि हम ये जानना चाहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर से 80 किलो RDX कैसे भारत में आ गया, वो भी उस जगह जहां पर सेना की इतनी बड़ी तादाद है।

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को हुए आतंकी हमले के बाद कई तरह के सवाल खड़े हुए थे। क्योंकि जम्मू-कश्मीर में जब इतना बड़ा सेना का काफिला जा रहा था, तब वहां पर एक सामान्य गाड़ी कैसे रास्ते में आ गई। उसमें इतना RDX भरा हुआ था कि सीआरपीएफ की पूरी गाड़ी ही उड़ गई। इस फिदायीन हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे।

जिस वक्त पुलवामा का आतंकी हमला हुआ था, उसके बाद भारतीय सेना ने इसका बदला लिया था और पाकिस्तान के आतंकी अड्डों पर बम दागे थे। इस करारे जवाब में कई आतंकी मारे गए थे। लेकिन इसके तुरंत बाद जब लोकसभा चुनाव आए तो विपक्ष ने भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चुनाव प्रचार में सेना का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। कांग्रेस समेत कई पार्टियों ने इसको लेकर चुनाव आयोग में शिकायत भी की थी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा रैलियों में दिए गए बयानों का हवाला दिया था।

पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को हुए आत्मघाती हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 40 जवानों को देशभर में श्रद्धांजलि दी जा रही है। श्रीनगर स्थित सीआरपीएफ के लेथपोरा में मेमोरियल पर शहीद जवानों को श्रद्धासुमन अर्पित किए गए।

उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया है, 'पिछले साल भयानक पुलवामा हमले में अपनी जिंदगी गंवाने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। वे सभी असाधारण लोग थे, जिन्होंने हमारे राष्ट्र की सेवा और रक्षा के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। भारत उनकी शहादत को कभी कभी नहीं भूलेगा।'

Tags :

Advertisement

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com