Advertisement

  • इन 5 मामलों में पुरुषों को बिल्कुल पसंद नहीं पत्नी की दखलंदाजी

इन 5 मामलों में पुरुषों को बिल्कुल पसंद नहीं पत्नी की दखलंदाजी

By: Priyanka Sat, 30 Nov 2019 6:15 PM

इन 5 मामलों में पुरुषों को बिल्कुल पसंद नहीं पत्नी की दखलंदाजी

वैसे तो ज्यादा रोक-टोक हर रिश्ते को बोझिल बना देती है और इस मामले में पुरुष कुछ ज्यादा ही सेंसिटिव होते हैं। उन्हें बात-बात में रोक-टोक अच्छी नहीं लगती और यही रोक-टोक उनके गुस्सा होने या चिड़चिड़ा होने का सबब बनती जाती है। इसलिए अगर आप चाहती हैं की आपके पति हर बात में झुँझलायें नहीं तो आपको भी ध्यान रखना होगा कि आप उनके हर मामले में दखलंदाजी न करें। हम आपको बताएंगे ऐसे 5 मामले जिनमे पुरुष दखलंदाजी पसंद नहीं करते हैं।

men do not like interference in their matter,mates and me,relationship tips,to make men happy do not interfere in their matters ,रिलेशनशिप  टिप्स, पुरूषों को पसंद नहीं है उनके मामले में दखलंदाज़ी

लुक्स

पुरुषों के लुक्स को लेकर बातें करना, राय देना या फिर कमेंट करना उन्हें आहत कर जाता है। उनकी सोच के अनुसार तन से ज़्यादा उनके मन को तवज्जो दिया जाना चाहिए। वैसे भी व़क्त के साथ चेहरा-स्वभाव आदि बदलता रहता है। करियर, नौकरी, घर-परिवार की ज़िम्मेदारी कई बार पुरुषों को व़क्त से पहले उम्रदराज़ बना देती है। इसलिए उनके साथ डील करते समय अतिरिक्त ध्यान देने की ज़रूरत होती है।

शौक़

हर व्यक्ति के अपने कुछ शौक़ होते हैं। पार्टनर या फिर किसी और का उनकी हॉबीज़ को लेकर दख़ल देना और यह कहना कि यह ठीक नहीं, इसे बदल दो, कुछ और करो, क्या यह ज़रूरी है कि तुम इस तरह के शौक़ पालो… इस तरह की बातें पुरुषों के मन में उस शख़्स को लेकर चिढ़ पैदा कर देती हैं। कोई भी पुरुष अपने शौक़ के साथ समझौता करना पसंद नहीं करता। उनके अनुसार, यही तो उनके ज़िंदगी को मस्ती में जीने का सबसे बड़ा ज़रिया है।

men do not like interference in their matter,mates and me,relationship tips,to make men happy do not interfere in their matters ,रिलेशनशिप  टिप्स, पुरूषों को पसंद नहीं है उनके मामले में दखलंदाज़ी

दोस्त

पुरुषों को, ख़ासकर पतियों को पत्नियों का उनके दोस्तों के मामले में दख़लअंदाज़ी करना बिल्कुल पसंद नहीं आता। ‘कोई भी पुरुष अपने अज़ीज़ दोस्तों को लेकर दख़लअंदाज़ी पसंद नहीं करता।

आलोचना


पुरुष अपनी पत्नी, प्रेमिका या फिर किसी और ने ही किसी बात को लेकर उनकी आलोचना सुनना पसंद नहीं करते।उनके काम पर कमेंट भी उन्हें बर्दाश्त नहीं होता, इससे उनके ईगो व भावनाओं को चोट पहुंचती है।

आदत

आदत में बहुत कुछ हो सकता है, जैसे- खानपान की आदत, मज़ाक करने की आदत, बेवजह ग़ुस्सा हो जाना या फिर शॉर्ट टेंपर, शंकालु प्रवृत्ति, छोटी-छोटी बातों को तूल देना, बिना बात लड़ाई-झगड़ा करना, ओवर प्रोटेक्टिव होना, केयरिंग, साफ़-सफ़ाई को अनदेखा करना, दोस्तों के साथ व़क्त-बे़क्त घूमना आदि।शायद ही कोई पुरुष हो, जिसे अपनी आदत को लेकर किसी भी तरह का कमेंट सुनना या भाषणबाज़ी व उपदेश सुनना पसंद आता हो

Tags :

Advertisement