Advertisement

  • होम
  • ट्रैवल
  • सूतक के दौरान भी खुले रहते हैं ये मंदिर, की जाती हैं पूजा

सूतक के दौरान भी खुले रहते हैं ये मंदिर, की जाती हैं पूजा

By: Ankur Wed, 17 June 2020 11:51 AM

सूतक के दौरान भी खुले रहते हैं ये मंदिर, की जाती हैं पूजा

आने वाले दिनों में 21 जून को साल 2020 का सबसे बड़ा सूर्यग्रहण लगने जा रहा हैं। सुबह 9 बजकर 15 मिनट और 58 सेकंड पर इसकी शुरुआत होनी हैं और इससे 12 घंटे पहले से ही सूतक काल की शुरुआत हो जाती हैं। सूतक काल के दौरान मंदिरों को भी बंद रखा जाता हैं ताकि ग्रहण का असर भगवान की मूर्ती पर ना पड़े। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ मंदिर ऐसे हैं जिन्हें ग्रहण के दौरान भी बंद नहीं रखा जाता हैं। तो आइये जानते हैं उन मंदिरों के बारे में।

astrology tips,astrology tips in hindi,sutak kaal,surya grahan 2020,solor eclipse 2020 ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, सूतक काल, सूर्यग्रहण 2020

कालाष्‍ठी स्थित कालहटेश्‍वर मंदिर

ग्रहण के वक्‍त देश के सभी मंदिर जहां बंद कर दिए जाते हैं वहीं एक मंदिर ऐसा है जहां पूजा-पाठ होती रहती है। यह दक्षिण भारत के श्री कालाष्‍ठी में स्थित कालहटेश्‍वर मंदिर है। यह देश का इकलौता ऐसा मंदिर है जहां राहु और केतु की पूजा होती है, इसलिए ग्रहण के वक्‍त इस मंदिर को बंद नहीं किया जाता है। बताते हैं कि कालसर्पदोष से पीड़‍ित लोग भी इस मंदिर में आते हैं। यहां पर राहु-केतु के साथ-साथ कालसर्प की भी पूजा होती है। यहां पर भक्‍त राहु-केतु की पूजा के बाद भगवान शिव और देवी ज्ञानप्रसूनअंबा की भी पूजा करते हैं।

astrology tips,astrology tips in hindi,sutak kaal,surya grahan 2020,solor eclipse 2020 ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, सूतक काल, सूर्यग्रहण 2020

उज्‍जैन का महाकाल मंदिर

ग्रहण के वक्‍त उज्‍जैन के महाकाल मंदिर के कपाट भी बंद नहीं होते हैं। हालांकि यहां ग्रहण के दौरान शिवलिंग को स्‍पर्श नहीं करते और पूजापाठ व भोग नहीं लगता। मगर मंदिर के कपाट को खोलकर रखा जाता है। इसके पीछे मान्‍यता यह है कि सूर्य या चंद्रग्रहण के दौरान वैष्‍णव मंदिरों के कपाट बंद कर दिए जाते हैं और शैव मंदिरों के कपाट खुले रहते हैं। ग्रहण की अवधि समाप्‍त होने के बाद पूरे मंदिर को गंगाजल छिड़ककर उसका शुद्धिकरण किया जाता है और उसके बाद पूजापाठ के कार्य आरंभ किए जाते हैं। ग्रहण के दौरान पुजारी भी मंदिर के अंदर ही रहते हैं और जप करते हैं। ग्रहण के बाद यहां पर भक्‍त शिप्रा नदी में स्‍नान करके खुद को पवित्र करते हैं।

Tags :

Advertisement

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com