Advertisement

  • Navratri Special 2019 : माता चंद्रघंटा करती है भक्तों के कष्टों का निवारण, इन मंत्रों के जाप से प्रसन्न होंगी देवी मां

Navratri Special 2019 : माता चंद्रघंटा करती है भक्तों के कष्टों का निवारण, इन मंत्रों के जाप से प्रसन्न होंगी देवी मां

By: Pinki Mon, 08 Apr 2019 09:27 AM

Navratri Special 2019 : माता चंद्रघंटा करती है भक्तों के कष्टों का निवारण, इन मंत्रों के जाप से प्रसन्न होंगी देवी मां

नवरात्रि में मां दुर्गा की महाउपासना की जाती हैं इसमें हर दिन माँ दुर्गा की पूजा होती है। नवरात्रि के नौ दिनों में देवी के 9 रूपों की पूजा की जाती है। नवदुर्गा हिंदू धर्म में माता दुर्गा या पार्वती के 9 रूपों को एक साथ कहा जाता है। इन्हें पापों की विनाशिनी कहा जाता है। हर देवी के अलग-अलग वाहन हैं, नवरात्र के तीसरे दिन मां दुर्गा के तीसरे अवतार देवी चंद्रघंटा की पूजा होती है। माता के सिर पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र है। इसी वजह से इन्हें चंद्रघंटा कहा जाता है। माता भक्तों को सभी तरह के पापों से मुक्त करती हैं।

माँ के रूप का विवरण

देवी चंद्रघंटा का वाहन सिंह है, इनकी दस भुजाएं और तीन आंखें हैं। आठ हाथों में खड्ग, बाण आदि दिव्य अस्त्र-शस्त्र हैं और दो हाथों से ये भक्तों को आशीष देती हैं। इनका संपूर्ण शरीर दिव्य आभामय है। इनके दर्शन से भक्तों का हर तरह से कल्याण होता है। इनकी पूजा से बल और यश में बढ़ोतरी होती है। स्वर में दिव्य अलौकिक मधुरता आती है। देवी की घंटे सी प्रचंड ध्वनि से भयानक राक्षसों आदि भय खाते हैं।

नवरात्रि के तीसरे दिन का महत्व

नवरात्रि का तीसरा दिन भय से मुक्ति और अपार साहस प्राप्त करने का होता है। इस दिन मां के चंद्रघंटा स्वरुप की उपासना की जाती है। इनके सिर पर घंटे के आकार का चंद्रामा है। इसलिए इन्हें चंद्रघंटा कहा जाता है। इनके दसों हाथों में अस्त्र-शस्त्र हैं और इनकी मुद्रा युद्ध की मुद्रा है। मां चंद्रघंटा तंभ साधना में मणिपुर चक्र को नियंत्रित करती है और ज्योतिष में इनका संबंध मंगल ग्रह से होता है।

# भोजन का स्वाद बढ़ाने वाला नमक सवार सकता है आपकी जिंदगी, जानें किस तरह

# उल्लू को मत समझिए ऐसा-वैसा, देता है आपके जीवन से जुड़े कई संकेत

कैसे की जाती है पूजा

मां चंद्रघंटा जिनके माथे पर घंटे के आकार का एक चंद्र होता है, इनकी पूजा करने से शांति आती है, परिवार का कल्याण होता है, मां को लाल फूल चढ़ाएं, लाल सेब और गुड़ चढाएं, घंटा बजाकर पूजा करें,ख्ढोल और नगाड़े बजाकर पूजा और आरती करें, शुत्रुओं की हार होगी, इस दिन गाय के दूध का प्रसाद चढ़ाने का विशेष विधान है, इससे हर तरह के दुखों से मुक्ति मिलती है, देवी का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है। उनका ध्यान हमारे इस लोक और परलोक दोनों को सद्गति देने वाला है। इनके मस्तक पर घंटे के आकार का आधा चंद्र है इसीलिए मां को चंद्रघंटा कहा गया है। वे खड्ग और अन्य अस्त्र-शस्त्र से विभूषित हैं। सिंह पर सवार दुष्टों के संहार के लिए हमेशा तैयार रहती हैं। इसके घंटे सी भयानक ध्वनि से अत्याचारी दानव-दैत्य और राक्षस कांपते रहते हैं। इनके शरीर का रंग सोने के समान बहुत चमकीला है और इनके दस हाथ हैं।

मां चंद्रघंटा का मंत्र

पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यां चन्द्रघण्टेति विश्रुता॥

ध्यान मंत्र

पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्रयं चन्द्रघण्टेति विश्रुता॥

मां चंद्रघंटा का उपासना मंत्र


''या देवी सर्वभूतेषु चन्द्रघंटा रूपेण संस्थिता.
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः''

स्तोत्र पाठ

आपदुध्दारिणी त्वंहि आद्या शक्तिः शुभपराम्। अणिमादि सिध्दिदात्री चंद्रघटा प्रणमाभ्यम्॥
चन्द्रमुखी इष्ट दात्री इष्टं मन्त्र स्वरूपणीम्। धनदात्री, आनन्ददात्री चन्द्रघंटे प्रणमाभ्यहम्॥
नानारूपधारिणी इच्छानयी ऐश्वर्यदायनीम्। सौभाग्यारोग्यदायिनी चंद्रघंटप्रणमाभ्यहम्॥

# पर्स में हमेशा विराजमान रहेगी माँ लक्ष्मी, अगर इसमें रखेंगे ये चीजें

# आपकी शादीशुदा जिंदगी को तबाह कर रही है सौतन, छुटकारा पाने के लिए आजमाए ये ज्योतिषीय उपाय

Tags :
|

Advertisement