आबादी का बड़ा हिस्सा कर रहा हैं हाई कोलेस्ट्रॉल का सामना, इन 9 ड्रिंक की मदद से करें इसे कंट्रोल

By: Ankur Tue, 18 Jan 2022 8:49 PM

आबादी का बड़ा हिस्सा कर रहा हैं हाई कोलेस्ट्रॉल का सामना, इन 9 ड्रिंक की मदद से करें इसे कंट्रोल

बढ़ती उम्र के साथ कई परेशानियां भी सामने आती हैं। इन्हीं में से एक परेशानी हैं कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना जो कि आजकल कम उम्र में भी सामने आ रही हैं। कोलेस्ट्रॉल स्तर बढ़ने से शरीर को ऑक्सीजन पहुंचने में परेशानी आती हैं और हार्ट स्ट्रोक का खतरा भी बना रहता हैं। अध्ययन बताते हैं कि शहरी पॉपुलेशन के 25-30% लोगों में और रूरल पापुलेशन के 15% लोगों में हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल है। ऐसे में स्वस्थ रहने के लिए जरूरी हैं कि समय रहते कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रण में लाया जाए। इसलिए आज इस कड़ी में हम आपके लिए कुछ ऐसी ड्रिंक्स लेकर आए हैं जिनके सेवन से कोलेस्ट्रॉल स्तर मेंटेन रहता है। तो आइये जानते है इन ड्रिंक्स के बारे में...

drinks to control  high cholesterol,healthy living,Health tips

ओट ड्रिंक

कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने के लिए ओट मिल्क बहुत प्रभावशाली है। इसमें बीटा-ग्लूकन नामक चीज है, जो बाइल सॉल्ट के साथ मिलकर इंटेसटाइन में जेल जैसा लेयर बनाता है, जो बदले में कोलेस्ट्रॉल के अवशोषण को कम करने में मदद करता है। एक कप ओट मिल्क में 1.3 ग्राम बीटा ग्लूकन होता है। इसलिए ओट ड्रिंक के पैक पर हमेशा बीटा-ग्लूकन के स्तर की जांच जरूर करें।

drinks to control  high cholesterol,healthy living,Health tips

बेरी स्मूदी

हर तरह की बेरी में एंटीऑक्सीडेंट्स प्रचुर मात्रा में होता है, जो कोलेस्ट्रॉल स्तर को सही रखने में सहायक है। स्ट्रॉबेरी, रसबेरी, ब्लूबेरी और ब्लैकबेरी में खूब सारे एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर होते हैं। लो फैट मिल्क में मुट्ठी भर बेरी डालकर रोजाना शेक पीने से कोलेस्ट्रॉल स्तर कम होता है।

drinks to control  high cholesterol,healthy living,Health tips

कोकोआ ड्रिंक

कोकोआ में फ्लेवनॉल नामक एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो बॉडी में बैड कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने में मदद करता है। डार्क चॉकलेट का मुख्य इनग्रेडिएंट कोकोआ है, जिसमें मोनोसैचुरेटेड फैटी एसिड का उच्च स्तर रहता है। यह कोलेस्ट्रॉल स्तर को सुधारने में सहायक है। अमूमन 50 मिलीग्राम कोकोआ को दिन में दो बार लेने से कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने में मदद मिलती है। प्रोसेस किए हुए चॉकलेट से परहेज करना चाहिए क्योंकि इनमें सैचुरेटेड फैट का उच्च स्तर रहता है।

drinks to control  high cholesterol,healthy living,Health tips

अल्कोहल

सीमित मात्रा में अल्कोहल का सेवन ब्लड में एचडीएल स्तर को बढ़ा सकता है। अल्कोहल की बात की जाए तो इसमें रेड वाइन सही चॉइस है क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। कई अध्ययन यह खुलासा करते हैं कि सीमित मात्रा में रेड वाइन के सेवन से न सिर्फ कोलेस्ट्रॉल स्तर कम होता है बल्कि कुछ खास तरह के हार्ट डिजीज से भी बचाव होता है। हेवी ड्रिंकिंग से परहेज करना चाहिए क्योंकि इससे बैड कोलेस्ट्रॉल स्तर बढ़ता है।

स्टेनॉल और स्टेरॉल

स्टेनॉल और स्टेरॉल प्लांट केमिकल हैं, जिनका शेप और साइज कोलेस्ट्रोल जैसा होता है। ये कोलेस्ट्रॉल के अवशोषण को ब्लॉक करते हैं। फूड कंपनियां इन केमिकल्स को कई फूड्स और ड्रिंक्स में मिलाती है। एफडीए का कहना है कि रोजाना स्टेरॉल का 1।3 ग्राम और स्टेनॉल का 3.4 ग्राम सेवन कोलेस्ट्रॉल स्तर को सही रखने में मदद करता है।

drinks to control  high cholesterol,healthy living,Health tips

ग्रीन टी

ग्रीन टी एंटीऑक्सीडेंट का बढ़िया स्रोत है। इसमें कैटचिन्स और एपीगैलोकैटचीन गैलेट्स होते हैं। ग्रीन टी पीने से एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और कुल कोलेस्ट्रॉल स्तर कम होता है। ब्लैक टी में ग्रीन टी की तुलना में कम कैटचिन्स होते हैं।


प्लांट बेस्ड स्मूदी

काले, कद्दू, मेलन और केले जैसे इनग्रेडिएंट वाले स्मूदी कोलेस्ट्रॉल स्तर को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। इंग्रेडिएंट्स को ओट मिल्क में मिलाकर स्मूदी बनाने से कुछ ही सैचुरेटेड फैट बचते हैं, जो अनियमित कोलेस्ट्रोल स्तर के लिए जिम्मेदार होते हैं।

drinks to control  high cholesterol,healthy living,Health tips

टमाटर का जूस

टमाटर में बढ़िया मात्रा में लाइकोपीन होता है, जो एक एंटी ऑक्सीडेंट है। यह एंटी ऑक्सीडेंट सेल डैमेज की सुरक्षा करने में मदद करता है। टमाटर के बारे में एक बढ़िया बात यह है कि इसे प्रोसेस करने से इसके अंदर का लाइकोपीन कॉन्टेंट बढ़ जाता है। इसमें नियासीन और कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाले फाइबर भी होते हैं। एक अध्ययन के अनुसार 2 महीने तक रोजाना 280 मिलीलीटर टमाटर का जूस पीने से कोलेस्ट्रॉल स्तर में सुधार आता है।

drinks to control  high cholesterol,healthy living,Health tips

सोय मिल्क

सोय मिल्क में सैचुरेटेड फैट का काम असर होता है। रेगुलर क्रीमर और हाई फैट मिल्क की जगह सोय मिल्क लेने से कोलेस्ट्रॉल मैनेजमेंट में मदद मिलती है। फूड एंड ड्रग एसोसिएशन की सलाह है कि कम सैचुरेटेड फैट और 25 ग्राम सोय प्रोटीन रोजाना अपनी डाइट में लेना चाहिए।

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com