Advertisement

  • होम
  • न्यूज़
  • इस राज्य में बिगड़े हालात, 20 दिन में 72% बढ़े कोरोना मरीज, 2100 से ज्यादा पॉजिटिव

इस राज्य में बिगड़े हालात, 20 दिन में 72% बढ़े कोरोना मरीज, 2100 से ज्यादा पॉजिटिव

By: Pinki Sat, 23 May 2020 12:13 PM

इस राज्य में बिगड़े हालात, 20 दिन में 72% बढ़े कोरोना मरीज, 2100 से ज्यादा पॉजिटिव

कोरोना संकट में देशभर में लॉकडाउन का दौर जारी है लेकिन इसके बावजूद कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे है। देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 लाख 25 हजार 120 हो गई है। शनिवार को राजस्थान में 48 मरीजों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके अलावा 279 मरीज और बढ़े हैं, लेकिन वे किस राज्य से हैं यह जानकारी नहीं मिल सकी है। बीते 10 दिन में 49 हजार 326 मरीज बढ़े हैं। पिछले 4 दिन से लगातार 5 हजार से ज्यादा संक्रमित बढ़ रहे हैं। 19 मई को 6154 संक्रमित, 20 मई को 5720, 21 मई को 6023 और 22 मई को 6570 मरीज बढ़े।

तेलंगाना / कुएं में मिले 9 प्रवासी श्रमिकों के शव, 7 बंगाल और 2 बिहार के

बिहार में संक्रमित मामलों में आयी तेजी

बिहार में भी संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे है। अब तक प्रदेश में 2100 से ज्यादा पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं, वहीं इस महामारी से 11 लोगों की मौत हुई है। यहां शुक्रवार को 179 नए मरीज मिले। इनमें से मधुबनी में 34, कटिहार में 19, बेगुसराय में 17, समस्तीपुर में 10 और गोपालगंज में 9 संक्रमित बढ़े। राज्य में कुल संक्रमितों में से एक हजार से ज्यादा प्रवासी मजदूर हैं। गुरुवार को 24 घंटे में रिकॉर्ड 211 मरीजों की पुष्टि हुई थी।

लापरवाही / बिहार के क्वारेंटाइन सेंटर में महिलाओं को साड़ी के बदले पहनने के लिए दी लुंगी

प्रवासी मजदूरों की वजह से बढ़ रहे मामले

हालांकि, सूबे में कोरोना वायरस के बढ़ने का सबसे बड़ा कारण प्रवासी मजदूर माने जा रहे हैं। जानकारी के मुताबिक, पिछले 20 दिनों के दौरान बिहार में आए पॉजिटिव केस में 72% मामले प्रवासी मजदूरों के हैं। 3 मई के बाद से 22 मई के बीच कोरोना वायरस के मामले बिहार में तेजी से बढ़े हैं। इस दौरान करीब 1649 पॉजिटिव केस सामने आए हैं। इनमें बड़ी संख्या दूसरे राज्यों से लौटे प्रवासी मजदूरों की है। इस दौरान दिल्ली से लौटे 333 प्रवासी मजदूर कोरोना पॉजिटिव पाए गए। महाराष्ट्र से 293 और गुजरात से लौटे 212 प्रवासी मजदूर कोविड-19 से संक्रमित मिले हैं। हालांकि, प्रवासी मजदूरों की स्क्रीनिंग में सरकार की ढिलाई की वजह से बिहार में कोरोना मरीजों का आंकड़ा बढ़ा है।

तीन श्रेणी में बाटेंगे

प्रवासी मजदूरों के बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित होने के मामले सामने आने के बाद बिहार स्वास्थ्य विभाग ने इन्हें तीन अलग-अलग श्रेणियों में बांटने का फैसला लिया है। दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र को श्रेणी 'A' में रखा गया है, दूसरे नंबर वो हैं जहां से कम केस आए हैं, उन्हें श्रेणी 'B' में और जहां सबसे कम केस हैं या बिल्कुल पॉजिटिव केस नहीं हैं उन्हें 'C' कैटगरी में रखा है।

बिहार में कोरोना मरीजों के आंकड़ों पर नजर डालें तो 15 मई को जहां प्रदेश में महज 1000 पॉजिटिव केस आए थे, वहीं एक हफ्ते के अंदर ही ये बढ़कर 2166 पहुंच गए हैं। बिहार हेल्थ सोसाइटी की ओर से शुक्रवार को शेयर की गई जानकारी के मुताबिक, तीन मई से अब तक बिहार लौटे 1,184 प्रवासी मजदूरों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है।

22 मार्च को सामने आया था पहला मामला

बता दे, बिहार में कोरोना वायरस का पहला मामला 22 मार्च को सामने आया था, जब प्रदेश में तीन पॉजिटिव केस सामने आए। इसके बाद 29 अप्रैल तक आंकड़ा 400 के पार पहुंच गया। 3 मई को प्रदेश में कोरोना के 517 मामले थे।

राज्य सरकार ने किए ये खास इंतजाम

बिहार सरकार ने कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज को लेकर खास व्यवस्था की है। कोरोना मरीजों के लिए तीन डेडिकेटेड अस्पतालों में 2,344 बेड हैं। इनके अलावा, कोरोना मरीजों के लिए डेडिकेटेड केयर सेंटर और हेल्थ सेंटर में 7,769 बेड की व्यवस्था है। एक अधिकारी ने बताया कि राज्य में 15,000 मरीजों को रखने करने की क्षमता है। अगर जरूरत पड़ी, तो क्वारंटीन सेंटर का भी इस्तेमाल किया जाएगा।

Tags :
|
|

Advertisement