Advertisement

  • मां का दूध बच्चे के लिए है अमृत, जानें क्या कहती है रिसर्च

मां का दूध बच्चे के लिए है अमृत, जानें क्या कहती है रिसर्च

By: Ankur Fri, 21 Feb 2020 8:02 PM

मां का दूध बच्चे के लिए है अमृत, जानें क्या कहती है रिसर्च

किसी भी नवजात बच्चे के लिए मां का दूध ही सबसे अच्छा आहार माना जाता हैं जो कि उसके शरीर के सभी पोषक तत्वों की पूर्ती करता हैं। हाल ही में एक अध्ययन में यह सामने आया हैं कि मां का दूध पीने से शिशु का दिमाग बहुत तेज होता है। यह रिसर्च अमेरिका की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी द्वारा की गई हैं जिसके अनुसार मां का दूध शिशु को पोषण देता है और उनके सर्वांगीण विकास में सहायक होता है और इसके कई चमत्कारी उपायों का खुलासा हुआ है।

अमेरिका की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में हुए हालिया शोध में यह खुलासा हुआ है कि मां का दूध न केवल बच्चों के दिमाग के विकास में सहायक होता है, बल्कि इसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट ओलिगोसैकाराइड2 एफएल संज्ञानात्मक (ज्ञान संबंधी) विकास में भी मदद करता है। कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी की रिसर्च टीम ने 50 माओं और उनके बच्चों पर शोध किया। शोधकर्ताओं ने मां के दूध में मौजूद तत्वों और एक से छह महीने के बच्चों को दूध पिलाने की आवृत्ति का विश्लेषण किया। जब इन बच्चों की उम्र 24 महीने हो गई तो बेले-3 स्केल की मदद से बच्चों के संज्ञानात्मक विकास को मापा गया। यह एक ऐसा परीक्षण है जिससे बच्चे के दिमागी विकास के बारे में पता लगाया जाता है।

Health tips,health tips in hindi,health research,breastfeeding boost brain,children drink mothers milk ,हेल्थ टिप्स, हेल्थ टिप्स हिंदी में, हेल्थ रिसर्च,  कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी, मां का दूध, बच्चों का विकास

शोधकर्ता लार्स बोड के मुताबिक मां के दूध के कई नमूनों में उन्होंने ओलिगोसैकाराइड2 एफएल की मात्रा की पहचान की। यह तकनीक हमें दूध में मौजूद तत्वों में अंतर करने की क्षमता देती है। इससे बच्चे के संज्ञानात्मक विकास के बारे में कई जानकारियां मिलती हैं। रिसर्च मैगजीन प्लोस वन में प्रकाशित इस रिपोर्ट में बताया गया कि मां के दूध में पहले के एक महीने में मौजूद ओलिगोसैकाराइड2 एफएल की मात्रा का संबंध दो साल के उम्र के बच्चों के संज्ञानात्मक विकास से था। इससे पता चलता है कि जन्म के बाद शुरुआती महीने में मां के दूध का सेवन करने से बच्चों का संज्ञानात्मक विकास अच्छा होता है।

शुरुआती दो साल में बेहतर संज्ञानात्मक विकास होने से बच्चों के जीवन पर लंबा प्रभाव पड़ता है। वे स्कूल और विभिन्न कार्यों में बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं। यह रिसर्च शिशु के लिए मां के दूध की महत्ता पर बल देती है। कुछ महिलाएं अपना फिगर मेंटेन करने के लिए अपने शिशु को दूध पिलाना पसंद नहीं करती, लेकिन डॉक्टर इसे जरूरी बताते हैं।

Tags :

Advertisement