दिवाली के दूसरे दिन इस मंदिर में बनता है दूध का तालाब, जानें क्‍या है वजह

By: Pinki Mon, 16 Nov 2020 10:03 AM

दिवाली के दूसरे दिन इस मंदिर में बनता है दूध का तालाब, जानें क्‍या है वजह

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सीहोर की इछावर तहसील के गांव देवपुरा स्थित बाराखम्बा मंदिर के पीछे दीपावली के अगले दिन दूध का तालाब बन जाता है। प्राचीन मिथकों और अंधी परम्पराओं से जुड़ा एक अजीबोगरीब दस्तूर है कि किसान और आदिवासी अपने दुधारु पशुओं की समृद्धि और स्वास्थ्य के लिए उनका एक दिन का पूरा दूध इछावर तहसील के गांव देवपुरा स्थित बाराह खम्बा मंदिर में भगवान पशुपतिनाथ की सिला पर हर वर्ष दीपावली की पड़वा को चढ़ाते हैं। वहीं इस दिन दूध की एक बूंद का इस्तेमाल पशु मालिकों के द्वारा नहीं किया जाता है। हालात यह बनती है दूध की मोटी धारा लगातार मंदिर के पीछे एक दूध के तालाब का निर्माण कर देती है। इस दस्तूर के पीछे मान्यता है कि पशुओं के रक्षक भगवान पशुपतिनाथ दुधारू पशुओं में वर्ष बाहर कोई संक्रामक रोग नहीं होने देते हैं। इसलिए किसान और आदिवासी आज भी इस मान्यता का निर्वहन करते चले आ रहे हैं।

madhya pradesh,diwali,diwali 2020,milk pond,weird news ,मध्य प्रदेश

दूर दूर से आते हैं लोग

भगवान पशुपतिनाथ की सिला पर हर वर्ष दीपावली की पड़वा को आसपास और जिले के बाहर के हजारो किसान और आदिवासी अपने दुधारु पशुओं की समृद्धि और स्वास्थ्य के लिए एक दिन का पूरा दूध चढ़ाते हैं। यहां एक वृहद मेले की शक्ल में हजारों लोग अपनी आस्था, श्रद्धा और विश्वास की त्रिवेणी को मूर्त रूप देते हैं। हालात यह बनता है चढ़ाए हुए दूध की मोटी दो धाराए लगातार मंदिर के पीछे एक दूध के तालाब का निर्माण कर देती है।

ये भी पढ़े :

# इस होटल की पांचवीं मंजिल पर छिपा हैं गहरा राज, लिफ्ट में 5th फ्लोर पर जाने का बटन ही नहीं

# हेलमेट नहीं पहनने पर पुलिस ने थमाया सब्ज़ीवाले को 2 मीटर लंबा 42,500 रुपये का चालान

# इस जोड़े की शादी भी रही थी सुर्ख़ियों में और अब तलाक बना चर्चा का विषय

# 7500 करोड़ रुपये की बैंक डकैती, ट्रकों में भरकर ले जाया गया था पैसा

# क्या हैं पेड़ों को सफेद और लाल रंग से रंगने के पीछे का कारण? आइये जानें

lifeberrys हिंदी पर देश-विदेश की ताजा Hindi News पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अपडेट। Viral News in Hindi के लिए क्लिक करें अजब गजब सेक्‍शन
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com