स्विट्ज़रलैंड में सीज हुए नीरव मोदी के 4 बैंक खाते, 283 करोड़ रुपये थे जमा

By: Pinki Thu, 27 June 2019 2:24:02

स्विट्ज़रलैंड में सीज हुए नीरव मोदी के 4 बैंक खाते, 283 करोड़ रुपये थे जमा

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) घोटाले के मुख्य आरोपी और भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को बड़ी कामयाबी मिली है। जांच एजेंसियों ने इस मामले में नीरव मोदी और उनकी बहन पूर्वी मोदी से जुड़े चार बैंक खातों को स्विट्ज़रलैंड में सीज़ किया है। इन चार खातों में करीब 283.16 करोड़ रुपए जमा हैं। ये जानकारी खुद स्विस बैंक की तरफ से दी गई है। स्विस बैंक की तरफ से जारी की गई एक प्रेस रिलीज में बताया गया है कि भारत की जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय की मांग पर स्विस बैंक ने नीरव मोदी और पूर्वी मोदी के चार खातों को सीज कर दिया है। बता दें कि नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक को करीब 13 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाने का आरोप है।

बता दें कि पीएनबी बैंक के करीब 13 हजार करोड़ के घोटाले के आरोपी नीरव मोदी मार्च में अपनी गिरफ्तारी के बाद से दक्षिण-पश्चिमी लंदन की वांड्सवर्थ जेल में बंद है। इस महीने की शुरुआत में ब्रिटेन के हाईकोर्ट ने नीरव की जमानत की अर्जी ठुकरा दी थी। नीरव की जमानत याचिका अब तक चार बार ठुकराई जा चुकी है।

इससे पहले बुधवार को ही ये बात सामने आई थी कि इस घोटाले के दूसरे आरोपी मेहुल चोकसी का अब भारत प्रत्यर्पण का रास्ता साफ हो गया है। एंटिगुआ के प्रधानमंत्री ने बयान दिया था कि हम मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द कर रहे हैं, अब उसके पास कोई कानूनी रास्ता नहीं बचता है।

वीडियो लिंक के जरिए कोर्ट में पेश होगा नीरव मोदी

भगोड़े नीरव मोदी की आज वीडियो लिंक के जरिए जेल से लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में पेशी होगी। नीरव मोदी की नियमित हिरासत पर सुनवाई के लिए पेशी की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। लंदन के रॉयल कोर्ट्स ऑफ जस्टिस में दिये गए अपने फैसले में, न्यायमूर्ति इंग्रिड सिमलर ने निष्कर्ष निकाला कि "मोदी के पास फरार होने के रास्ते हैं, लिहाजा यह मानने के लिए पर्याप्त आधार" हैं वह आत्मसमर्पण नहीं करेंगे।"

बता दे, फरवरी 2018 में जब PNB घोटाला देश के सामने आया था, तभी से ही नीरव मोदी फरार है और एजेंसियां उसकी तलाश कर रही हैं। तब से लेकर अब तक उसकी देश में कई करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की जा चुकी है लेकिन अबकी बार विदेशी संपत्ति पर बड़ा हाथ लगा है।

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन lifeberrys हिंदी की वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश से जुड़ीNews in Hindi
|
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2023 lifeberrys.com