विक्रम लैंडर को लेकर नागपुर पुलिस ने किया ट्विट, कहा - कृपया रेस्पॉन्ड करें, सिग्नल ब्रेक करने के लिए चालान नहीं करेंगे

By: Pinki Mon, 09 Sept 2019 6:21 PM

विक्रम लैंडर को लेकर नागपुर पुलिस ने किया ट्विट, कहा - कृपया रेस्पॉन्ड करें, सिग्नल ब्रेक करने के लिए चालान नहीं करेंगे

सोमवार को इसरो ने विक्रम को लेकर अपडेट दिया है। इसरो (ISRO) ने कहा है कि विक्रम (Vikram Lander) सुरक्षित है और कोई भी टूट-फूट नहीं हुई है। इसरो के अधिकारी ने कहा कि हम लैंडर के साथ संचार को फिर से स्थापित करने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं। वही इस बीच विक्रम लैंडर को लेकर नागपुर पुलिस ने मजेदार ट्वीट किया है। नागपुर पुलिस ने अपने ट्वीट में कहा कि डियर विक्रम, कृपया रेस्पॉन्ड करें। हम आपको सिग्नल ब्रेक करने के लिए चालान नहीं करेंगे।

nagpur police,tweets,respond,isro,vikram,lander,vikram lander news in hindi,news,news in hindi ,इसरो,नागपुर पुलिस,विक्रम लैंडर,चंद्रयान 2

इसके बाद काफी संख्या में सोशल मीडिया यूजर्स ने इस पर प्रतिक्रिया दी है। एक यूजर ने लिखा- 'हम जानते हैं। नागपुर पुलिस चांद पर भी है!' दूसरे ने लिखा- नियम तो नियम होता है।

एक यूजर ने पुलिस के ट्वीट पर जवाब दिया- 'नागपुर पुलिस, हां, करोड़ों भारतीय की भवनाएं विक्रम से जुड़ी हुई हैं। आपका ट्वीट काफी शानदार है!'

nagpur police,tweets,respond,isro,vikram,lander,vikram lander news in hindi,news,news in hindi ,इसरो,नागपुर पुलिस,विक्रम लैंडर,चंद्रयान 2

इसके बाद काफी संख्या में सोशल मीडिया यूजर्स ने इस पर प्रतिक्रिया दी है। एक यूजर ने लिखा- 'हम जानते हैं। नागपुर पुलिस चांद पर भी है!' दूसरे ने लिखा- नियम तो नियम होता है।

एक यूजर ने पुलिस के ट्वीट पर जवाब दिया- 'नागपुर पुलिस, हां, करोड़ों भारतीय की भवनाएं विक्रम से जुड़ी हुई हैं। आपका ट्वीट काफी शानदार है!'

बता दे, विक्रम लैंडर अपने तय स्थान से करीब 500 मीटर दूर चांद की जमीन पर गिरा पड़ा है, लेकिन अगर उससे संपर्क स्थापित हो जाए तो वह वापस अपने पैरों पर खड़ा हो सकता है। इसरो के सूत्रों ने बताया कि विक्रम लैंडर के नीचे की तरफ पांच थ्रस्टर्स लगे हैं। जिसके जरिए इसे चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करनी थी। इसके अलावा, विक्रम लैंडर के चारों तरफ भी थ्रस्टर्स लगे हैं, जो अंतरिक्ष में यात्रा के दौरान उसकी दिशा तय करने के लिए ऑन किए जाते थे। ये थ्रस्टर्स अब भी सुरक्षित हैं। लैंडर के जिस हिस्से में कम्युनिकेशन एंटीना दबा है, उसी हिस्से में भी थ्रस्टर्स हैं। अगर पृथ्वी पर स्थित ग्राउंड स्टेशन से भेजे गए कमांड को सीधे या ऑर्बिटर के जरिए दबे हुए एंटीना ने रिसीव कर लिया तो उसके थ्रस्टर्स को ऑन किया जा सकता है। थ्रस्टर्स ऑन होने पर विक्रम एक तरफ से वापस उठकर अपने पैरों पर खड़ा हो सकता है। अगर ऐसा हुआ तो इस मिशन से जुड़े वे सारे प्रयोग हो पाएंगे जो पहले से इसरो के वैज्ञानिकों ने चंद्रयान-2 को लेकर तय किए थे।

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन lifeberrys हिंदी की वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश से जुड़ीNews in Hindi
|
|
|
|
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com