Advertisement

  • हिन्दी न्यूज़››
  • न्यूज़››
  • कोटा : नींद की गोलियां खाकर महिला ने की आत्महत्या, दहेज प्रताड़ना के चलते रहती थी मायके

कोटा : नींद की गोलियां खाकर महिला ने की आत्महत्या, दहेज प्रताड़ना के चलते रहती थी मायके

By: Ankur Fri, 05 Mar 2021 10:09 PM

कोटा : नींद की गोलियां खाकर महिला ने की आत्महत्या, दहेज प्रताड़ना के चलते रहती थी मायके

कोटा के बोरखेड़ा थाना क्षेत्र में आत्महत्या का ऐसा मामला सामने आया हैं जिसमें एक महिला ने नींद की गोलियां खाकर अपना जीवन समाप्त किया। महिला रेणु कंवर अपनी शादी के 2 साल बाद से ही मायके में रह रही थी क्योंकि ससुराल वाले उसे दहेज़ के लिए प्रताड़ित करते थे। ऐसे में तनाव के चलते महिला ने यह कदम उठाया। अचेतावस्था उसे अस्पताल लाया गया। जहां डॉक्टरों उसे मृत घोषित कर दिया। मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने मायके पक्ष को महिला का शव सौंप दिया। रेणु की मौत की सूचना के बाद ससुराल पक्ष से एक भी व्यक्ति कोटा नहीं आया। पीड़ित परिजनों ने बोरखेड़ा थाना पुलिस में शिकायत दी है। बोरखेड़ा थाना पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

रेणु के भाई अजय सिंह ने बताया कि उसके पिता फौज से रिटायर्ड हैं। फिलहाल पुलिस लाइन में तैनात हैं। दो भाई, दो बहनों में रेणु सबसे बड़ी बहन है। रेणु की शादी साल 2012 में करौली जिले में ऋषिराजपाल सिंह से हुई थी। ऋषिराजपाल दुकान लगाता है, उसने कुछ एजेंसियां ले रखी है। शादी के बाद से ही ससुराल वाले पैसे की डिमांड करते थे। साल 2014 में रेणु ने एक बच्ची को जन्म दिया था। उसके बाद से ही ससुराल वाले रेणु को मानसिक रूप प्रताड़ित करने लगे थे। प्रताड़ना से दुखी होकर रेणु मायके में आकर रहने लगी थी। वो 6 साल से मायके में ही रह रही थी। रेणु का पति कभी कभी फोन पर बात किया करता था।

ये भी पढ़े :

# जयपुर : बढ़ती कीमत के विरोध में प्रदर्शन, सिलेंडर पर माला चढ़ा दी विदाई, चूल्हे पर बनाई चाय

# जोधपुर : 2 घंटे में युवक ने छुडाए पुलिस के पसीने, 25 फीट ऊंचे पोल पर चढ़ मचाया उत्पात

# राजस्थान में बढ़ा गर्मी का आलम, 38 डिग्री के पार पहुंचा पारा

# अजमेर : फायरिंग करते हुए आए तीन युवक, दिनदहाड़े किया युवती का अपहरण, तमाशा देखते रहे लोग

# बाड़मेर : छात्र की लापरवाही बनी जान की दुश्मन, ईयरफोन के कारण नहीं आई ट्रेन की आवाज, हुई मौत

Tags :
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2021 lifeberrys.com