लेह में स्थित है मां दुर्गा के 51 शक्तिपीठों में से एक श्री पर्वत शक्तिपीठ, यहां गिरी थी माता सती की दायें पैर की पायल

By: Pinki Wed, 22 June 2022 10:56 PM

लेह में स्थित है मां दुर्गा के 51 शक्तिपीठों में से एक श्री पर्वत शक्तिपीठ, यहां गिरी थी माता सती की दायें पैर की पायल

लेह लद्दाख (Leh Ladakh) में पर्यटन स्थल की खूबसूरती को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता। लेह लद्दाख का दौरा करना एक शानदार अनुभव हो सकता है। लेह लद्दाख में हिंदुओं का प्रसिद्द धार्मिक स्थल श्री पर्वत शक्तिपीठ स्थित है। माता दुर्गा को समर्पित यह स्थल माता के 51 शक्तिपीठों में से एक है। माना जाता है कि इस शक्तिपीठ पर देवी सती के दाहिने पैर की पायल गिर गई थी। श्री पर्वत शक्तिपीठ में शक्ति को देवी सुंदरी और भैरव को सुंदरानंद के रूप में पूजा जाता है।

श्री पर्वत शक्तिपीठ को लेकर मान्यता है कि यह प्राचीन मंदिर करीब 800 साल पुराना है। मंदिर परिसर में देवी काली की एक विशाल प्रतिमा स्थापित है। यह शक्तिपीठ मां दुर्गा के प्रसिद्द 51 शक्तिपीठों में से एक है। इन सभी शक्ति पीठों के उत्पत्ति की कथा एक ही है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान शिव के ससुर दक्ष ने यज्ञ का आयोजन किया था, लेकिन उन्होंने यज्ञ में भगवान शिव और माता सती को नहीं बुलाया। दक्ष भगवान शिव को अपने बराबर नहीं समझते थे। माता सती को जब इसके बारे में पता चला तो वह बिना बुलाए ही यज्ञ में जा पहुंचीं। वहां भगवान शिव के अपमान से दुखी होकर माता सती हवन कुंड में कूद गईं। जब भगवान शिव को इस बारे में पता चला तो वह माता सती के शरीर को हवन कुंड से निकालकर तांडव करने लगे। इससे सारे ब्रह्माण्‍ड में हाहाकार मच गया। भगवान विष्णु ने ब्रह्माण्‍ड को बचाने के लिए अपने सुदर्शन चक्र से माता सती के शरीर को 51 भागों में बांट दिया। कहते हैं जो अंग जहां गिरा वह शक्ति पीठ बन गया। मान्यता है कि जहां श्री पर्वत शक्तिपीठ स्थित है, वहां माता सती की दायें पैर की पायल गिरी थी।

shri parvat shaktipeeth,leh ladakh

श्री पर्वत शक्तिपीठ पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। मंदिर में सभी त्यौहार मनाये जाते हैं। खासकर दुर्गा पूजा व नवरात्र के त्यौहार में यहां विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है। इन दिनों मंदिर की सजावट देखने लायक होती है। मंदिर का आध्यात्मिक वातावरण श्रद्धालुओं के दिल और दिमाग को शांति प्रदान करता है। मंदिर से विश्व की सबसे ऊंची औद्योगिक हवाई-पट्टी के रुप में प्रसिद्ध लेह हवाई-पट्टी का खूबसूरत नजारा दिखाई देता है। काली मंदिर के वातावरण में घुली प्राकृतिक सुगंध भक्तों को मंत्र-मुग्ध कर देता है।

shri parvat shaktipeeth,leh ladakh

कैसे पहुंचें श्री पर्वत शक्तिपीठ

श्री पर्वत शक्तिपीठ से नजदीकी हवाई अड्डा लेह में है और निकटतम बड़ा रेलवे स्टेशन जम्मू में है। लेह के लिए दिल्ली से सीधी उड़ाने संचालित होती हैं। श्रद्धालु सड़क मार्ग से भी लेह पहुंच सकते हैं। सड़क मार्ग से लेह जाने के लिए श्रीनगर से लेह और मनाली से होते हुए पहुंचा जा सकता है। श्रीनगर से जोजिला पास होते हुए और लद्दाख से महोते हुए लेह पहुंचा जा सकता है।

ये भी पढ़े :

# नैनीताल से सिर्फ 51 KM दूर है ये खूबसूरत हिल स्टेशन, ट्रैकिंग, रॉक क्लाइम्बिंग और पैराग्लाइडिंग का ले भरपूर मजा

# उत्तराखंड के चमोली जिले में है रंग बदलने वाली फूलों की घाटी, यहां लक्ष्मण के लिए संजीवनी लेने आये थे हनुमान

# गर्मियों की छुट्टियों के बचे हैं अभी कुछ दिन, फटाफट बना ले बच्चों के साथ इन जगहों पर घूमने का प्लान

# इस ट्रेन के अंदर भगवान राम का मंदिर, दिन में तीन बार आरती कर सकेंगे यात्री

# कम पैसों में करें अपना ट्रेवल ट्यूर प्लान, ले इन टिप्स की मदद

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com