• हिन्दी न्यूज़››
  • हेल्थ››
  • कोरोना वैक्सीन की क्या सिर्फ एक खुराक से बन सकता हैं काम! जानें शोध से जुड़ी जानकारी

कोरोना वैक्सीन की क्या सिर्फ एक खुराक से बन सकता हैं काम! जानें शोध से जुड़ी जानकारी

By: Ankur Fri, 05 Feb 2021 1:12 PM

कोरोना वैक्सीन की क्या सिर्फ एक खुराक से बन सकता हैं काम! जानें शोध से जुड़ी जानकारी

पूरी दुनिया अभी भी कोरोना के कहर का सामना कर रही हैं जहां हर दिन अभी लाखों नए संक्रमित आ रहे हैं जिसके चलते संक्रमितों का आंकड़ा 10।50 करोड़ के ऊपर जा चुका हैं और मौतों का आंकड़ा 22।80 लाख के करीब हैं। हांलाकि पूरी दुनिया में अब कोरोना वैक्सीनेशन पर काम किया जा रहा हैं। दुनिया में अभी तक जिस भी वैक्सीन को लागू किया गया हैं वे सभी दो खुराक वाली हैं अर्थात दो खुराक के बाद ही शरीर में पूरी तरह से कोरोना के खिलाफ लड़ने की क्षमता विकसित हो पाएगी। लेकिन हाल ही में हुए अध्ययन में कहा गया है कि संक्रमण से ठीक हुए लोग अगर मॉडर्ना या फाइजर द्वारा विकसित कोविड-19 का टीका लगवा रहे हैं, तो टीके की दो खुराक के बजाय सिर्फ एक खुराक से भी काम चल सकता है। दरअसल, अध्ययन में टीके की आपूर्ति सीमित संख्या में होने की स्थिति में खुराक कम करने के तरीके के बारे में सुझाए दिए गए हैं।

हालांकि विशेषज्ञों ने अभी इस अध्ययन की समीक्षा नहीं की है और न ही इसे अभी कहीं प्रकाशित किया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस अध्ययन में 109 कोरोना मरीजों में रोग प्रतिरोधी क्षमता का आकलन किया गया है। इसके शोधकर्ताओं में अमेरिका के इकान स्कूल ऑफ मेडिसिन के प्रोफेसर फ्लोरियन क्रैमर भी शामिल हैं।

Health tips,health research,corona research,coronavirus,corona vaccine ,हेल्थ टिप्स, हेल्थ रिसर्च, कोरोना रिसर्च, कोरोनावायरस, कोरोना वैक्सीन

शोधकर्ताओं के मुताबिक, एमआरएनए तकनीक पर आधारित वैक्सीन की सिर्फ एक खुराक वैसे लोगों में ज्यादा असरदार होती है जो कोरोना के संक्रमण से उबर चुके हैं और उनमें वायरस के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो गई है। उनका कहना है कि ऐसे लोगों में टीके की पहली खुराक 'बूस्टर खुराक' की तरह काम करती है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि कोरोना से ठीक हो चुके लोगों में टीका लगाए जाने के बाद रोग प्रतिरोधक क्षमता के स्तर की तुलना उन लोगों से की गई, जिन्हें संक्रमण नहीं हुआ था और उन्हें टीके की दो खुराक दी गई थी। इसके अलावा एक अन्य शोध में स्वास्थ्यकर्मियों को दी गई फाइजर-बायोएनटेक या मॉडर्ना वैक्सीन की एकल खुराक पर रोग प्रतिरोधक क्षमता का अध्ययन किया गया।

दरअसल, अध्ययन में वैज्ञानिकों ने एमआरएनए तकनीक पर आधारित वैक्सीन का विश्लेषण किया और इस नतीजे पर पहुंचे कि टीके की एक खुराक भी कारगर हो सकती है। एमआरएनए तकनीक में कोरोना वायरस के जेनेटिक कोड को शरीर में इंजेक्शन के जरिए इंजेक्ट किया जाता है जिससे शरीर वायरल प्रोटीन बनाने लगता है। हालांकि यह पूरा वायरस नहीं बनाता। इस प्रकार शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र वायरस पर हमला करने में सक्षम हो जाता है।

ये भी पढ़े :

# अस्थमा मरीज सर्दियों में ऐसा रखें अपना खानपान, बनी रहेगी अच्छी सेहत

# ये संकेत बताते हैं कि जल्द शामिल करें आहार में सब्जियां, अन्यथा शरीर हो जाएगा तबाह

# विश्व कैंसर दिवस : ये 6 आहार कम करेंगे बीमारी का खतरा, डाइट में जरूर करें शामिल

# शोध में हुआ कोरोना के ब्रिटेन स्ट्रेन को लेकर खुलासा, नहीं बनता अधिक गंभीर मामलों का कारण

# भोजन का स्वाद बढ़ाने के साथ ही ब्‍लड शुगर को नियंत्रित करते हैं ये 5 मसाले

Tags :

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2021 lifeberrys.com