गणपति विसर्जन : इस तरह विधिपूर्वक करें गणेश जी की विदाई

By: Ankur Mon, 31 Aug 2020 10:04 AM

गणपति विसर्जन : इस तरह विधिपूर्वक करें गणेश जी की विदाई

गणेशोत्सव जारी हैं जो कि कल अन्नत चतुर्दशी के दिन गणपति विसर्जन के साथ समाप्त हो जाएगा। गणेशोत्सव के ये 10 दिन भक्तगण गणपति जी की सेवा करते हैं। भोग लगाकर एवं पूजा-अर्चन कर गणपति जी को प्रसन्न किया जाता हैं और अन्नत चतुर्दशी के दिन गणेश जी की विदाई की जाती हैं। ऐसे में आज हम आपको गणेश प्रतिमा को विदा करने की पूर्ण विधि की जानकारी देने जा रहे हैं ताकि गणपति जी का आशीर्वाद आप पर बना रहें और जीवन में शुभागम हो। तो आइये जानते हैं इसके बारे में।

- सबसे पहले 10 दिन तक की जाने वाली आरती-पूजन-अर्चन करें।

- विशेष प्रसाद का भोग लगाएं।

- अब श्री गणेश के पवित्र मंत्रों से उनका स्वस्तिवाचन करें।

astrology tips,astrology tips in hindi,ganpati visarjan,lord ganesha ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, गणपति विसर्जन, भगवान गणेश

- एक स्वच्छ पाटा लें। उसे गंगाजल या गौमूत्र से पवित्र करें। घर की स्त्री उस पर स्वास्तिक बनाएं। उस पर अक्षत रखें। इस पर एक पीला, गुलाबी या लाल सुसज्जित वस्त्र बिछाएं।

- इस पर गुलाब की पंखुरियां बिखेरें। साथ में पाटे के चारों कोनों पर चार सुपारी रखें।

- अब श्री गणेश को उनके जयघोष के साथ स्थापना वाले स्थान से उठाएं और इस पाटे पर विराजित करें। पाटे पर विराजित करने के उपरांत उनके साथ फल, फूल, वस्त्र, दक्षिणा, 5 मोदक रखें।

- एक छोटी लकड़ी लें। उस पर चावल, गेहूं और पंच मेवा की पोटली बनाकर बांधें। यथाशक्ति दक्षिणा (‍सिक्के) रखें। मान्यता है कि मार्ग में उन्हें किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। इसलिए जैसे पुराने समय में घर से निकलते समय जो भी यात्रा के लिए तैयारी की जाती थी वैसी श्री गणेश के बिदा के समय की जानी चाहिए।

astrology tips,astrology tips in hindi,ganpati visarjan,lord ganesha ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, गणपति विसर्जन, भगवान गणेश

- नदी, तालाब या पोखर के किनारे विसर्जन से पूर्व कपूर की आरती पुन: संपन्न करें। श्री गणेश से खुशी-खुशी बिदाई की कामना करें और उनसे धन, सुख, शांति, समृद्धि के साथ मनचाहे आशीर्वाद मांगें। 10 दिन जाने-अनजाने में हुई गलती के लिए क्षमा प्रार्थना भी करें।

- श्री गणेश प्रतिमा को फेंकें नहीं उन्हें पूरे आदर और सम्मान के साथ वस्त्र और समस्त सामग्री के साथ धीरे-धीरे बहाएं।

- श्री गणेश इको फ्रेंडली हैं तो पुण्य अधिक मिलेगा क्योंकि वे पूरी तरह से पानी में गलकर विलीन हो जाएंगे। आधे अधूरे और टूट-फूट के साथ रूकेगें नहीं।

- अगर घर के गमले में गणेश जी की प्रतिमा विसर्जित करना है तो उन्हें एक स्वच्छ पात्र में रखकर पहले गला लीजिए फिर जब वे शीतल हो जाएं तब यह मिट्टी गमले में सुंदर फूलों के बीज के साथ शिफ्ट कर दीजिए।

ये भी पढ़े :

# ओणम 2020 : आज मनाया जाएगा यह पावन पर्व, जानें शुभ मुहूर्त और कथा

# भूल से भी पर्स में ना रखें ये 8 चीजें, हो जाएंगे कंगाल

# शनिदेव को नाराज करेंगी शनिवार के दिन की गई ये 5 गलतियां

# जलझूलनी एकादशी 2020 : मान-सम्मान और धनलाभ दिलाएंगे ये 5 उपाय

# 1000 करोड़ की लागत से बन रहा रामानुजाचार्य का मंदिर, गर्भगृह में रखी जाएगी 120 किलो सोने की मूर्ति

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com